Archive for फ़रवरी, 2012

सत्य विचार—————

सत्य विचार—————
१=कवि वह सपेरा है जिसकी पिटारी में साँपों के स्थान पर ह्रदय बन्द होते हैं।
२= सच्चा प्रेम संयोग में भी वियोग की मधुर वेदना का अनुभव करता है।

Advertisements

Leave a comment »

कुछ चुनाव-चिन्हों पर पहेलियाँ———

कुछ चुनाव-चिन्हों पर पहेलियाँ———
हाथी=== काला है पर काग नहीं , कहें नाग पर सांप नहीं। एक हाथ पर पैर चार , बतलाओ कर सोच-विचार।।
कमल=== पेट फोड़ा तो कल , सिर तोड़ा तो मल ।पांव टूटे तो कम ,हँसता है हरदम।।
साइकिल======= तन लोहे का पांव रबर के , उसे चलाते हैं दम भरके।।
तराजू======== पूँछ पीठ पर टांगें आठ , ढोती माल उठाती बाट।।

Leave a comment »

सूक्ति (वोट )–सदा एक सिद्धान्त के लिए वोट दो।चाहे तुम अकेले ही वोट दो और तब तुम्हें इस मधुर विचार का आनन्द मिलेगा कि तुम्हारा वोट कभी व्यर्थ नहीं जाता।

Leave a comment »

सूक्ति (वोट)

Leave a comment »

गज़लों के राजा (सुपर गायक जगजीत सिंह जी ) को मेरा सलाम।

Leave a comment »