Archive for अक्टूबर, 2009

सुविचार–

बरसात  के पानी  की  बूंद सीप  में  मोती  हो  जाती  है।गुणवान  मनुष्य  तुच्छ  वस्तु  को  भी  मूल्यवान  बना  देता  है।

Leave a comment »

सूर्य छठ

सूर्य छठ  का व्रत  कार्तिक सुदी  छठ  को  किया  जाता  है।इसमें  व्रत  रख़कर  भगवान  सूर्य  नारायण  की  पूजा  की  जाती  है। सू्र्य  देव  को  अर्ध्य  देकर  उन्हें  फूल  चढ़ाए  जाते  हैं  और  आरती  उतार कर  स्तुति  करते  हैं  और  उन्हें  प्रणाम करते  हैं अर्ध्य  देते  समय  भगवान  की  किरणों को  जल  में  देखने का  बड़ा  महत्व  है।भगवान  सू्र्य  सुख़  और  संतान  के  देने  वाले, आँखों  को  ज्योति  प्रदान  करने  वाले  तथा  रोगों  को  दूर  करने  वाले हैं।

Leave a comment »

यम द्वितीया (भैय्या दूज) की मेरी ओर से बहुत सारी शुभकामनाएं।

Leave a comment »

धनतेरस आप सभी को शुभ हो।

Leave a comment »

दीपावली की शुभकामनाएँ

मनुष्य   एक   सामाजिक   प्राणी   होने   के   नातेसामाजिक  वातावरण  में  ही  हर्ष , विवाद और  सुख़-दुख़  का  अनुभव  करता  है। मानव   आनन्द  का  अनुभव  करने  के  लिए   विशेष  अवसरों  की  खोज  करता  है।त्यौहार उन  विशेष  अवसरों में  से  एक  हैं।पर्व  जीवन  में  आनन्द  और उल्लास  पैदा  करते   हैं । दीपावली  का  साधारण   अर्थ  दीपों   की    पंक्ति   का  उत्सव   है। दीपक  का  प्रकाश  ज्ञान   व   उल्लास  का  प्रतीक  है। वास्तव  में   इस  त्योहार  का  आरम्भ  धनतेरस  से  ही   होता   है। इस  समय  वर्षा   ऋतु  समाप्त  हो  जाती  है , इसलिए  इसका  महत्व  और   भी  बढ़  जाता   है।वर्षा ऋतु   की   गंदगी, कीड़े-मकोड़े  आदि  को  इस  त्यौहार  के  माध्यम  से  हटा  दिया  जाता  है। दीपावली  का  पर्व  अत्यन्त  लाभप्रद  है।इस  बहाने   बरसात  के  बाद  सफ़ाई  हो  जाती  है।सफ़ाई  से  स्वास्थ्य  ठीक  होता  है, जिससे  आयु  में   वृद्धि   होती  है।सरसों  के  तेल  के  दीपक  किटाणुओं   का  नाश  करने  में  समर्थ  होते  हैं। यह  आशा , ज्ञान , प्रकाश  एवं  सौहार्द का  पर्व  है।ईश्वर  लोगों   को सद् बुद्धि  दें कि वे  मदिरापान  एवं  जुऐ  को  त्यागकर  ज्ञान  की  लौ  को  अपने  ह्रदय  में  बसाकर  ज्ञानी  बनें।
  दीपावली  के  साथ  अनेक  महापुरुषों   के  जीवन  चरित्र  संबद्ध  हैं।दीवाली  हमें  त्याग  और  संगठन  का  संदेश  देते  हुए  कहती  है—-
  दीपमाला    कह    रही    है ,  दीप   से  युग  युग  जलो।।
  घोरतम   को   पार   कर ,  आलोक   बनकर   तुम   ढलो।।

Comments (1) »

शरत पूर्णिमा

आश्विन  शुक्ला  पूर्णिमा  को  ‘शरत-पूर्णिंमा’  कहते  हैं।माताएं  आज  के  दिन  अपनी  संतान  की  शुभकामना  के  लिए  व्रत  पूजन  किया  करती  हैं। इस  दिन  आकाश  निर्मित  होता  है अतः  चाँद  की  किरण  पृथ्वी  पर  भली  प्रकार  पड़ती  है।।कुछ  विद्वानों  का  मत  है  कि  इस  दिन  चंद्रमा  पृथ्वी  के  करीब  आ  जाता हैऔर  उसकी  किरणों  में  अमृत  होता  है।इस  दिन  भगवान  श्री कृष्ण  ने  महारास  किया  था, इस  कारण  आज  के  दिन  महारास  की लीला  अधिकाँश  लोग  खेलते  हैं। कहीं कहीं  बहन  आज  के  दिन भाई  की  रक्षा  के  लिए  व्रत  रहा  करती  है।इस  दिन  खीर  बनाकर  भगवान  को  अर्पण  करें।

Leave a comment »