वर्षा ऋतु का आगमन

मानव    जीवन   के   समान   ही   प्रकृति   में   भी   परिवर्तन   आता   रहता   है।  जिस   प्रकार   जीवन   में   सुख-दुख     आशा-निराशा    की    विपरीत   धाराएँ    बहती   रहती   हैं,    उसी   प्रकार   प्रकृति    भी    कभी   सुखद    रुप   को   प्रकट   करती  है   तो   कभी   दुखद। सुख   के   बाद   दुख   का   प्रवेश   कुछ   अधिक   कष्टकारी   होता   है।बसन्त   ऋतु   की   मादकता   के   बाद   ग्रीष्म   का   आगमन   होता   है। ग्रीष्म-ऋतु   में   प्रकृति   का   दृश्य    बदल   जाता   है।  फूल   मुरझा   जाते   हैं।  बाग-बगीचों   से   उनकी   बहारें   उठ   जाती   हैं।  गर्म   लुएं   सबको  व्याकुल   कर   देती   हैं। ग्रीष्म   के   भयंकर   ताप   के   बाद   वर्षा-ऋतु   का   आगमन   हो   जाता   है।  ये   ऋतु   प्राणी-जगत   में   नए    प्राणों    का   संचार   करती    है। सर्वत्र    हरियाली   ही   हरियाली    दिखाई    देने   लगती   है।
           धानी     चूनर     ओढ़    धरा   दुल्हिन    जैसे   मुस्काती    है।
           नई   उमंगें    नई    तरंगें   लेकर    वर्षा   ऋतु    आती   है।
वैसे   तो    आषाढ़ मास   से   इस   ऋतु    का   आरम्भ    हो   जाता   है  लेकिन   इसके   असली   महीने    सावन   तथा   भादों    हैं।  धरती    का    ‘शस्य    श्यामलाम्    सुफ़लाम’    नामक   सार्थक   हो   जाता   है।
         सभी    भाषाओं    के    कवियों    ने   ‘बादल’    और   ‘वर्षा’     पर   बड़ी    सुन्दर   कविताएँ    रची    हैं,  अनोखी    कल्पनायें    की   हैं।  इस   ऋतु   में    वियोगियों    की    विरह   वेदना   बढ़    जाती    है।वर्षा    पृथ्वी    की    प्यास   बुझा    कर    उसे   तृप्त    करती   हैं।

2 Responses so far »

  1. 1

    sameerlal said,

    बढ़िया ..बारिश की बात निराली.

  2. 2

    …………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………speech lesssssssssssssssssssssssssssssss


Comment RSS · TrackBack URI

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: